in

10 हजार रुपये से शुरू हुआ यह स्टार्टअप बना रहा है ग्रामीण भारत को आत्मनिर्भर, आइडिया है बेहद प्रेरणादायक

हमने अबतक ऐसी कई कहानियां पढ़ी, जब सफलता हासिल करने के लिए लोग अपने जुनून का पीछा करते हैं और कठिन मेहनत से सफलता भी हासिल करते। हमारी आज की कहानी के हीरो हिमशक्ति के हर्षित सहदेव ने भी अपने जुनून का पीछा करते हुए सफलता का जो साम्राज्य बनाया, वह वाकई में प्रेरणा से भरी है।

हर्षित का बचपन ऋषिकेश और देहरादून जैसे शांत शहरों में बीता। साइकोलॉजी में मास्टर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने इंडस क्वालिटी फाउंडेशन, नई दिल्ली के साथ काम करना शुरू किया और बाद में रामकृष्ण आश्रम में ‘वैल्यू एजुकेटर’ के रूप में शामिल हो गए। रामकृष्ण आश्रम के साथ काम करते हुए उन्हें पूरे देश में यात्रा करने का मौका मिला और इससे उन्हें भारतीय समाज की बेहतर समझ भी मिली। उन्हें उत्तराखंड के पहाड़ी गाँवों में भी काम करने का मौका मिला।

वर्ष 2013 में ‘केदारनाथ त्रासदी’ के बाद हर्षित के सामने एक चुनौतीपूर्ण स्थिति थी, जब आईटीबीपी के एक जवान ने उन्हें बताया कि उत्तराखंड का डीडसारी गाँव सबसे बुरी तरह से प्रभावित है। उन्होंने गांव का दौरा किया और सोशल मीडिया पर समस्या के बारे में पोस्ट करना शुरू कर दिया। गाँव में त्रासदी के बाद तमाम बुनियादी सुविधाओं का अभाव हो गया था। यहां तक कि प्राथमिक चिकित्सा का लाभ उठाने के लिए लोगों को पांच किलोमीटर तक पैदल चलना होता था। हर्षित ने सोशल मीडिया पर इन मुद्दों को व्यापक रूप से उजागर किया, उसके बाद लोगों को मदद मिलनी शुरू हुई। एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद, वह कॉर्पोरेट दुनिया में वापस लौट आए। लेकिन उनके जुनून ने उनका पीछा नहीं छोड़ा।

वर्ष 2018 में, एक फ्रांसीसी लड़की ने हर्षित के बारे में पढ़ा और उनसे मिलने और उन गांवों का दौरा करने की इच्छा व्यक्त की, जहां उन्होंने ‘केदारनाथ त्रासदी’ के दौरान सेवा की थी। हर्षित से बातचीत के बाद वह भारत आई और दोनों ने क्षेत्र के गाँवों की स्थिति को देखने के लिए दौरा किया। वह फ्रांसीसी लड़की प्राकृतिक सुंदरता और संसाधनों के बावजूद क्षेत्र में लोगों के दुखों को देखकर हैरान हुई। शिक्षा और अवसरों की कमी के साथ, गाँवों से लोगों का सामूहिक पलायन हो रहा था। इस क्षेत्र में लोगों की मदद करने के लिए दोनों ने एक एनजीओ शुरू करने का फैसला किया, लेकिन प्रारंभिक शोध के बाद इस विचार को छोड़ दिया। उन्होंने महसूस किया कि एक अस्थायी मदद के बजाय, उन्हें एक स्टार्ट-अप शुरू करना चाहिए जो ग्रामीणों के लिए स्थायी रोजगार के अवसर पैदा कर सके।

हर्षित और उनके फ्रांसीसी दोस्त ने इस क्षेत्र के उत्पाद को बेचने वाली कंपनी शुरू करने का फैसला किया। जल्द ही हिमशक्ति के बैनर तले उन्होंने अपने स्टार्टअप को लॉन्च किया, और उनका पहला उत्पाद था ‘फ्लेवर्ड गॉरमेट साल्ट’ – एक नमक जो मूल उत्तराखंड की रेसिपी से बनाया गया था, जिसमें रोजमर्रा के खाद्य पदार्थों का स्वाद शामिल था। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि महज़ 10000 रुपये की छोटी पूंजी के साथ इस स्टार्टअप की शुरुआत हुई।

नमक हिमालय की पहाड़ियों में पाए जाने वाले कई अन्य जड़ी-बूटियों से बना है और इस क्षेत्र का एक पारंपरिक नुस्खा है। उन्होंने बिना किसी प्रशिक्षण के क्षेत्र में शून्य प्रतिस्पर्धा, उच्च अंतर्राष्ट्रीय मांग और क्षेत्र में आसान रोजगार सृजन को देखते हुए इस उत्पाद के साथ शुरुआत करने का फैसला किया।

हिमालय में पाई जाने वाली जड़ी-बूटियाँ औषधीय गुणों में उच्च हैं और कई विकारों को ठीक करने में मदद करती हैं। हमने अपने पहले उत्पाद ‘फ्लेवर्ड गॉरमेट नमक’ के साथ शुरुआत की, जो उपभोक्ताओं को मिलने वाले लाभों और इसे बनाने वाले ग्रामीणों को देखते हुए हुई।” – हर्षित ने केनफ़ोलिओज़ के साथ बातचीत में बताया

आज, हर्षित का स्टार्टअप ‘हिमशक्ति’ धीरे-धीरे और तेज़ी से अपना प्रभाव बना रहा है। उनके स्टार्टअप को भारतीय प्रबंधन संस्थान, काशीपुर द्वारा भी समर्थन मिला, और हाल ही में, प्रसिद्ध भारतीय शेफ हरपाल सिंह सोखी ने भी उनके उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए उनकी टीम में शामिल हुए हैं। हर्षित का स्टार्टअप उन आगामी सामाजिक स्टार्टअप्स में से एक है, जो समाज के लिए काम करने के प्रति हमारे दृष्टिकोण को बदलता है और युवाओं के बीच ‘सामाजिक उद्यमिता’ के बारे में भी जागरूकता पैदा करता है। उनकी कहानी वाकई में प्रेरणा से भरी है, जो हमें जुनून का पीछा करने के लिए प्रेरित करती है।

कहानी पर आप अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं और पोस्ट अच्छी लगी तो शेयर अवश्य करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0