in

नौकरी छोड़ अपने आइडिया के साथ बढ़ी आगे, आज पूरे भारत में फैला है 13 हजार करोड़ का साम्राज्य

सौंदर्य प्रसाधनों को सामान्य रुप से सिर्फ रुप सज्जा के लिए इस्तेमाल किये जाना वाले प्रोडक्ट के रुप में माना जाता है। मगर यह एक संकुचित मानसिकता है। इन उत्पादों का काफी विस्तृत स्वरुप है। जिसमें सिर के बाल से लेकर पाँव के नाखूनों तक की स्वच्छ और स्वस्थ देखभाल निहित है। महिलाएँ जब इन प्रसाधनों के लिए बाजार जाती हैं तो उनके शारिरिक स्वरुप के अनुरुप कौन सा उत्पाद उचित होगा इस संबंध में उन्हें कम जानकारी होती है और उचित जानकारी देने वालों की भी कमी होती है। महिलाओं की ऐसी ही समस्याओं को समझते हुए अपने 25 साल के चमकदार करियर को छोड़ कर सौन्दर्य प्रसाधन के क्षेत्र में कदम रखने वाली महिला को समर्पित है हमारी आज की कहानी।

1985 बैच में IIM,अहमदाबाद से निकलने के बाद फाल्गुनी नायर ने अपने करियर की शुरुआत ए.एफ. फर्गुसन से की। 1993 में वो कोटक महिन्द्रा फाईनेंस में आ गयी और उन्होंने कंपनी के लंदन ऑफिस की स्थापना की और 3 सालों के बाद अमेरीका में कंपनी का कार्यालय स्थापित किया। 2001 में वह भारत चली आईं और 2012 तक उन्होंने कोटक महिन्द्रा के साथ ही काम किया। फाल्गुनी ने 2012 में नायका (nykaa com) नाम से ई-काॅमर्स कंपनी की शुरुआत की। यहाँ उन्होंने ब्यूटी, मेकअप, पर्सनल केयर और वेलनेस से जुड़े प्रोडक्ट का व्यवसाय शुरु किया।

अन्तराष्ट्रीय स्तर के प्रोडक्ट और उनकी कार्य प्रणाली को भारतीय महिलाओं के लिए यहाँ के बाजार में लाने का उत्कृष्ट प्रयास था यह। इस काम को शुरु करने के लिए फाल्गुनी ने कोटक महिन्द्रा कैपिटल के प्रबंध निदेशक की नौकरी छोड़ दी। इनवेस्टमेंट बैंकर के तौर पर कोटक महिन्द्रा के साथ 19 साल और फाईनेंस सेक्टर के अपने 25 साल के करियर को छोड़ कर फाल्गुनी ने बिल्कुल अलग क्षेत्र में कदम रखा। फाल्गुनी की व्यवसायिक कुशलता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले 2 वर्षो में नायका का टर्नओवर 15 करोड़ से साल 2017 में 214 करोड़ तक पहुँच गया है। यूजर्स की संख्या 3 लाख से 2.5 करोड़ तक पहुँच गई है।

फाल्गुनी नायर के मन में नायका का विचार तब और बलवित हुआ जब वे अपने विदेश प्रवास के दौरान फ्राँस की रिटेल ब्रैण्ड सेपोरा के न्यू यार्क स्थित शो रुम में गई। हालांकि फाल्गुनी कभी सौन्दर्य प्रसाधनों की कोई नियमित ग्राहक नहीं थी परंतु फिर भी उन्होंने इस क्षेत्र में कदम रखने का निर्णय लिया। उन्होंने ग्राहकों द्वारा दी गई प्रतिक्रिया पर काफी गौर किया और इन सब को संकलित किया। और जल्द ही उनके ग्राहकों की संख्या बढ़ने लगी। लोग अपने पसंद के उत्पाद पाने लगे। फाल्गुनी अपने ग्राहकों के रवैये और खरीदारी की प्रवृति को काफी अध्ययन किया। वे अपने ग्राहकों की खरीदारी को देख कर ही उनकी वृती और उनकी तरजीह को समझ लेती हैं।

फाल्गुनी के इस उपक्रम में निवेशकों का काफी विश्वास है। उन्होंने 25 लाख डाॅलर का निवेश सुनिल मुंजाल, हर्षा मालीवाल, अतुल निसार और टी.वी.एस. कैपिटल से जुटाए हैं। नायका पर 350 ब्रैण्ड और बहुत बड़ी उत्पादों की उपलब्धता है। नायका अब अपने अउटलेट्स पर भी काम कर रही है। 2020 तक 30 तक करने की योजना है। कई बड़ी और अंतरराष्ट्रीय कंपनीयों के साथ नायका का समझौता हुआ है जो भारतीय ग्राहको के लिए बेहतरीन उत्पाद प्रस्तुत करेंगे। वर्तमान में उनकी टीम में 350 लोग हैं जिनमें से 80 तकनीकि क्षेत्र से IIT दिल्ली और मुंबई से हैं।

सिडह्नम काॅलेज से काॅमर्स की पढ़ाई पूरी कर जब फाल्गुनी IIM, अहमदाबाद गयी तो वहाँ उनकी मित्रता संजय मेहता से हुई। 1987 में दोनों विवाह सुत्र में बँधे। संजय ने 2009 तक सिटी ग्रुप के साथ काम किया। 2009 से अब तक वह KKR के C.E.O. हैं। टाटा मोटर्स में रतन टाटा की वापसी के बाद फाल्गुनी नायर को टाटा मोटर्स के बोर्ड ऑफ मेम्बर्स में शामिल किया गया। इससे वे काफी चर्चा में हैं और साथ ही साथ वह बोर्ड में अकेली महिला सदस्य भी हैं।

आज फाल्गुनी फैशन और ब्यूटी के क्षेत्र में जाना पहचाना नाम बन चुकी हैं। महिलाओं द्वारा निजी रुप से उद्यमिता के क्षेत्र में यह एक बड़ा कदम है। फाल्गुनी नायर कई सारी विडम्बनाओं और पूर्वाग्रहों को पीछे छोड़ कर एक बिल्कुल ही नए आयाम को स्थापित किया है। अपने हर प्रयास को श्रेष्ठ बनाने वाली फाल्गुनी उस साहस और हिम्मत का पर्याय है जो जीवन के हर क्षेत्र के लिए अनिवार्य है।

अपडेट: मार्च 2020 में नायका का वैल्यूएशन करीब 1.2 बिलियन डॉलर था, जब इसने स्टीडव्यू कैपिटल के नेतृत्व में 25 मिलियन डॉलर का निवेश उठाया। कंपनी ने नवंबर 2020 में कथित तौर पर 1.8 बिलियन डॉलर अर्थात 13 हज़ार करोड़ रुपये के मूल्यांकन पर फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट्स से एक अज्ञात राशि भी जुटाई थी। इसके अलावा कंपनी ने पिछले साल बॉलीवुड स्टार्स आलिया भट्ट और कैटरीना कैफ से भी फंडिंग जुटाई। साल 2015 में कंपनी में रिटेल आउटलेट्स के क्षेत्र में अपनी उपस्थिति का विस्तार करना शुरू किया था और वर्तमान में 55 खुदरा स्टोर श्रृंखलाओं के साथ आज देश की एक अग्रणी ब्रांड के रूप जानी जाती है। साथ ही, फाल्गुनी नायर आज भारत की दूसरी सबसे अमीर सेल्फ मेड महिला उद्यमी के रूप में हमारे बीच खड़ी हैं।

आप अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं और इस पोस्ट को शेयर अवश्य करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0