in

दो बार UPSC क्रैक कर बनीं IPS, अब पांचवें प्रयास में पूरा हुआ IAS बनने का सपना

जैसे ही यूपीएससी 2019 के परिणाम घोषित हुए, हर साल की तरह इस साल भी संघर्ष से सफलता हासिल करने वाले कई उम्मीदवारों की कहानियां सामने आई। हमारी आज की कहानी भी एक ऐसी ही प्रतिभावान लड़की की है, जिसने अपने आईएएस बनने के सपने को कभी मरने नहीं दिया। मध्यप्रदेश की निधि बंसल की कहानी अपने आप में अनूठी है।

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि वर्तमान में निधि एक आईपीएस ऑफ़िसर हैं। चार साल पहले निधि को यूपीएससी परीक्षा में 219वीं रैंक मिली थी और उनका चयन आईपीएस ऑफ़िसर के रूप में हुआ था। वर्तमान में वह हैदराबाद के पुलिस प्रशिक्षण केन्द्र में IPS की ट्रेनिंग कर रही हैं। पेशे से आईआईटी इंजीनियर निधि का सपना आईएएस बनने का ही था, इसलिए दो बार आईपीएस के रूप में चयन होने बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी और अपना मेहनत जारी रखा।

गौरतलब है कि साल 2016 में निधि ने यूपीएससी के अपने दूसरे प्रयास में सफलता हासिल की थी। तब उन्हें झारखंड में एडीशनल एसपी का पद दिया गया था। फिर साल 2017 में भी आईपीएस काडर में ही उनका चयन हुआ। इसके बाद 2018 में उन्हें सफलता नहीं मिल सकी लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और आखिरकार पांचवें प्रयास में 23वीं रैंक हासिल कर अपने मंजिल को पा लिया।

निधि कहती हैं कि दो बार आईपीएस में चयन हो तो गया, लेकिन मेरा जुनून हमेशा से कलेक्टर बनने का था। यही वजह रही कि मैंने यूपीएससी की तैयारियां जारी रखीं और शायद लगातार की गई मेहनत का ही नतीजा रहा कि इस बार सफलता मिल ही गई।

निधि देश के प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थान आईआईटी चेन्नई से कंप्यूटर विज्ञान में इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। सफलतापूर्वक इंजीनियरिंग के बाद उन्हें बंगलौर में अच्छे पैकेज की नौकरी भी मिली। लेकिन देश और समाज सेवा की प्रेरणा ने उन्हें आईएएस बनने का नया सपना दे दिया। अपनी दृढ़ता, कठिन मेहनत और कभी न हार मानने वाले जज़्बे की बदौलत उन्होंने अपनी कामयाबी की अनूठी कहानी लिखी।

आप अपनी प्रतिक्रिया नीचे कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं और पोस्ट अच्छी लगी तो शेयर अवश्य करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0